शेयर मार्केट क्रैश- चुनिंदा को लाभ पहुंचाने के लिये मोदी शाह ने भारतीयों के 30 लाख करोड़ डूबा दिये
BREAKING मुख्य ख़बर राष्ट्रीय

शेयर मार्केट क्रैश- चुनिंदा को लाभ पहुंचाने के लिये मोदी शाह ने भारतीयों के 30 लाख करोड़ डूबा दिये

49 Views

राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह व वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर जबरदस्त हमला बोला है। स्टॅाक मार्केट की  भारी गिरावट और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व द्वारा शेयर मार्केट में इनवेस्ट करने की सलाह को राहुल गांधी ने सबसे बड़ा घोटाला करार दिया है। राहुल ने आज प्रेस वार्ता कर खुला आरोप लगाया कि चुनिंदा लोगों को लाभ पहुंचाने के लिये इन तीनों ने भारतीय निवेशकों का तीस लाख करोड़ रुपये डूबा दिया।

पार्टी मुख्यालय पर मीडिया से वार्ता करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि 31 मई को भारी स्टॉक एक्टिविटी थी। ये वो लोग थे, जो जानते थे कि कोई न कोई घपला हो रहा है। हजारों करोड़ों यहां इन्वेस्ट हुए। 30 लाख करोड़ का नुकसान हुआ। रीटेल इन्वेस्टर का नुकसान हुआ। ये हिंदुस्तान का सबसे बड़ा स्कैम है।

राहुल गांधी ने कहा कि पहले गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि आने वाली 4 जून को लोकसभा चुनाव के नतीजे आएंगे, तो शेयर बाजार आसमान पर जाएगा। इसके तुरंत बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शेयर बाजार में रिकॉर्ड तेजी आने की बात कहते हुए लोगों को शेयर खरीदने की सलाह दी। इसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी इसी तरीके से शेयर बाजार में जोरदार उछाल की बात कही थी।

राहुल ने कहा कि लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन यानी 4 जून को सेंसेक्स में 4389 अंकों (5.74%) की गिरावट देखने को मिली। इससे निवेशकों को 30 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। 4 जून को BSE पर लिस्टेड कंपनियों का ओवर ऑल मार्केट कैप 395 लाख करोड़ रुपए हो गया थो। एक दिन पहले यह लगभग 426 लाख करोड़ रुपए था।

उधर राहुल के खुले आरोप पर भाजपा नेता पर पलटवार करते हुए भाजपा नेता पीयूष गोयल आगे आये हैं। पीयूष गोयल ने कहा कि, ‘फिर एक बार मोदी सरकार आना निश्चित है। इस बात से राहुल गांधी परेशान नजर आते हैं। लोग निवेश न करें, इसके लिए बोल रहे हैं। आज से 10 साल पहले जब यूपीए की सरकार थी, तब भारत का मार्केट कैप 67 लाख करोड़ था। यही मोदी जी को विरासत में मिला था। आज हमारा मार्केट कैप 415 लाख करोड़ का मार्केट कैप हो चुका है। इसमें 5 गुना से ज्यादा बढ़त मोदी सरकार के कार्यकाल में हुई है।’

पीयूष गोयल ने बताया, ‘जिस दिन एग्जिट पोल आए तो मार्केट ऊपर था। तब फॉरेनर्स ने महंगे दाम पर शेयर खरीदे। भारतीय निवेशकों ने बेचकर लाभ लिया। 4 जून को जब मार्केट गिरा, तब फॉरेन इन्वेस्टर्स ने कम दाम पर बेचा और भारतीय निवेशकों ने खरीदा। भारतीय निवेशकों ने सोचा कि मोदी सरकार आ रही है, हम फायदा कमाएंगे। कहने का मतलब ये है कि भारतीय निवेशकों ने महंगे दाम पर बेचा और कम दाम में खरीदा।’

follow us on 👇

फेसबुक –https://www.facebook.com/groups/480505783445020
ट्विटर –https://twitter.com/firstbytetv_
चैनल सब्सक्राइब करें –https://youtube.com/@firstbytetv
वेबसाइट –https://firstbytetv.com/
इंस्टाग्राम – https://www.instagram.com/firstbytetv/

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *