तप और ज्ञान की भूमि है श्री परशुराम धाम : पं. सुनील भराला
उत्तर प्रदेश बागपत मेरठ

तप और ज्ञान की भूमि है श्री परशुराम धाम : पं. सुनील भराला

May 10, 2024
242 Views
  • विश्व व्यापक अक्षय अवतार है भगवान श्री परशुराम :- पं. सुनील भराला
  • विश्व में वैदिक आर्य संस्कृति की स्थापना का आधार है भगवान श्री परशुराम :- प. सुनील भराला

पूर्व राज्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार व संस्थापक राष्ट्रीय परशुराम परिषद पंडित सुनील भराला ने कहा कि विश्व में वैदिक आर्य संस्कृति की स्थापना के आधार भगवान परशुरामजी का अवतार भगवान नारायण का पहला पूर्ण अवतार है। भगवान् परशुरामजी का चरित्र वैदिक और पौराणिक इतिहास में सबसे व्यापक है। उनका अवतार अक्षय है इसलिये उनके अवतार की तिथि “अक्षय तृतीया” कहलाई। इस तिथि पर किसी भी कार्य आरंभ के लिये शुभ मुहूर्त देखने की आवश्यकता नहीं होती। उनकी उपस्थिति सतयुग के समापन से आरंभ होकर कलियुग के अंत तक रहने वाली है। इतना व्यापक और कालजयी चरित्र किसी देवता, ऋषि अथवा अवतार का नहीं है। पुराणों में यह उल्लेख भी है कि धर्म रक्षा के लिये कलयुग में जब कल्कि नारायण का कल्कि अवतार होगा तब उन्हें शस्त्र और शास्त्र का ज्ञान देने के निमित्त भी भगवान परशुराम जी ही होंगे।

पं.सुनील भराला आज  भगवान परशुराम के अवतरण दिवस पर आज बागपत स्थित पुरा महादेव में 11 कुंडलीय महायज्ञ में भाग लेने के बाद आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। यहां पुरा महादेव मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के उपरांत भगवान परशुराम की मूर्ति स्थापित की गई। पूर्व मंत्री भराला ने  कहा कि यह भगवान परशुराम की तपोभूमि है। उनकी तपस्या के उपरांत भगवान श्री परशुराम यहां संकल्पित है, स्वयंभू उत्पन्न हुए और यहां सिद्धि, तप और ज्ञान की प्राप्ति की। इस ज्ञान की प्राप्ति पर यहां स्वयंभू भगवान शंकर ने भी दर्शन दिए थे। यह पीठ इसी कारण से भगवान परशुराम जी के नाम से नहीं बल्कि परशुराम महादेव के नाम से जानी गई। राष्ट्रीय परशुराम परिषद के तत्वाधान में आयोजित कार्यक्रम की सफलता के लिए श्री भराला ने सभी कार्यकर्ताओं को बधाई दी।

श्री भराला ने बताया कि राष्ट्रीय परशुराम परिषद द्वारा विगत कई वर्षों के निरंतर प्रयास एवं साधू संत, महामंडलेश्वर, आचार्य महामंडलेश्वर, कुलपति और इतिहासकारो के सहयोग से भगवान परशुराम से संबंधित 56 स्थानों की खोज की गयी। इसी क्रम में भगवान श्री परशुराम की जन्मस्थली जनापाव इन्दौर मध्यप्रदेश को घोषित किया गया | भारत के यशस्वी गृहमंत्री अमित शाह ने भगवान श्री परशुराम जी के जन्मस्थान जनापाव इन्दौर पहुँच कर पूजन किया एवं तात्कालिक मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा श्री परशुराम कल्याण बोर्ड गठन की घोषणा भी की। समारोह के बाद भव्य भंडारे का भी आयोजन किया गया।

follow us on 👇

फेसबुक –https://www.facebook.com/groups/480505783445020
ट्विटर –https://twitter.com/firstbytetv_
चैनल सब्सक्राइब करें –https://youtube.com/@firstbytetv
वेबसाइट –https://firstbytetv.com/
इंस्टाग्राम – https://www.instagram.com/firstbytetv/

1 Comment

  • Pandit Sunil Bharala ji Zindabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *