हल्द्वानी में जहां सारा बवाल हुआ,वहां पुलिस स्टेशन बनाया जायेगा-धामी
उत्तराखंड देहरादून मुख्य ख़बर

हल्द्वानी में जहां सारा बवाल हुआ,वहां पुलिस स्टेशन बनाया जायेगा-धामी

Feb 12, 2024
21 Views

हल्द्वानी में अभी हालात तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में हैं। बनभूलपुरा क्षेत्र के अलावा बाकी जगह का कर्फ्यू हटा लिया गया है। बनभूलपुरा में हालात बेकाबू होने के बाद आठ फरवरी से कर्फ्यू लगा हुआ है। इस लंबे कर्फ्यू के मद्देनजर मुस्लिम संगठनों ने जरूरतमद वस्तुओं की पूर्ति के लिये कर्फ्यू में राहत देने की मांग की है। मुस्लिम संगठनों का यह भी दावा है कि देश में इन दिनों बुलडोजर संस्कृति हावी है ऐसे में कोई भी मुस्लिम ऐसी हरकत कर ही नहीं सकता है। इस  बीच, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि बनभूलपुरा में इस जगह पुलिस स्टेशन का निर्माण कराया जायेगा।

हल्द्वानी से लौटकर देहरादून में मुस्लिम संगठनों के नुमाइंदों ने मीडिया से वार्ता की।  इन लोगों का कहना है कि हल्द्वानी जाकर उन्होंने इस बवाल के कारण व इससे हुए नुकसान को करीब से देखा। इस मौके पर जमात इस्लाम ए हिन्द के डिप्टी मेयर मलिक मोतहसीन ने कहा कि हल्द्वानी में  मस्जिद और मदरसे को तोड़े बिना भी काम चल सकता था। क्योंकि वह काफी लंबे समय से सीज थे। उसके बावजूद जिला प्रशासन ने उसे तोड़ने का काम किया। दूसरी ओर पुलिस प्रशासन पर मुस्लिमों द्वारा पत्थरबाजी की बात कही जा रही है, लेकिन यह सब जानते हैं कि देशभर में बुलडोजर पॉलिटिक्स चल रही है। मुस्लिम पूरी तरह से डरा हुआ है। मुस्लिम जानता है कि ऐसे में पकड़े जाने पर क्या हश्र होगा, लिहाजा वह पथराव नहीं कर सकता।

मीडिया से वार्ता करते मुस्लिम संगठन के लोग-फोटो फर्स्ट बाइट.टीवी
मीडिया से वार्ता करते मुस्लिम संगठन के लोग-फोटो फर्स्ट बाइट.टीवी

मलिक मोहतसीन ने कहा कि इस घटना में जो लोग प्रभावित हुए हैं, उनकी जिम्मेदारी कौन लेगा। उन्होंने पुलिस व खुफिया विभाग की इसे विफलता बताया कि उन्हें समय रहते नहीं पता चला कि वहां क्या हालात बन रहे हैं।  दुनिया भर में इलीगल कंस्ट्रक्शन को भी लीगल बनाने के कुछ टर्म्स एंड कंडीशंस लाए जा सकते हैं और उसको लीगल बनाया जा सकता है। फिर मस्जिद को तोड़ना, इसकी ऐसी क्या जरूरत पेश आ गई है। उन्होंने कहा कि पूरा शहर नजूल जमीन पर है तो क्या फिर पूरा शहर तोड़ दिया जाए।

जमीयत उलेमा उत्तर प्रदेश के सचिव काजी जाकिर हुसैन ने कहा कि इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री से मुलाकात का वक्त मांगा गया है। जिससे उन्हें पूरे मामले की जानकारी दी जा सके। जिस तरह से हल्द्वानी में मदरसे और मस्जिद को गिराया गया है वह पूरी तरह से ठीक नहीं है। इसमें संविधान और अदालतों को नजर अंदाज किया गया है।

उन्होंने यह सवाल भी किया कि ऐसी कौन सी जल्दबाजी थी कि कोर्ट की सुनवाई से पहले ही मस्जिद और मदरसे को तोड़ने का काम किया गया। जबकि 14 फरवरी को इस मामले को लेकर न्यायालय में सुनवाई की जानी थी।

follow us on 👇

फेसबुक -https://www.facebook.com/groups/480505783445020
ट्विटर -https://twitter.com/firstbytetv_
चैनल सब्सक्राइब करें – https://youtube.com/@firstbytetv
वेबसाइट -https://firstbytetv.com/
इंस्टाग्राम -https://www.instagram.com/firstbytetv/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *