CBI की चार्जशीट के बाद हाथरस गैंगरेप पीड़िता की वकील बोलीं, पुलिस-प्रशासन के खिलाफ भी हो कार्रवाई ।।
राष्ट्रीय

CBI की चार्जशीट के बाद हाथरस गैंगरेप पीड़िता की वकील बोलीं, पुलिस-प्रशासन के खिलाफ भी हो कार्रवाई ।।

Dec 18, 2020
28 Views

हाथरस गैंगरेप पीड़िता की वकील सीमा समृद्धि ने आजतक से खास बातचीत करते हुए कहा कि सीबीआई ने 4 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है, लेकिन जिस प्रशासन ने पीड़िता के शव को परिवार को दिए बिना ही जला दिया उनके खिलाफ अभी तक कोई आरोप सीबीआई की तरफ से दाखिल नहीं किए गए हैं । उन्होंने आगे कहा कि सीबीआई की तरफ से दाखिल की गई चार्जशीट से अब यह तो साफ हो गया है कि हाथरस का लोकल एडमिनिस्ट्रेशन इस मामले में झूठा ऑनर किलिंग का केस मनाने में लगा हुआ था, और बलात्कार करने वालों को बचाने की कोशिश में था. वहां की लोकल पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के खिलाफ भी इस मामले में चार्जशीट दाखिल की जानी चाहिए । पीड़ित परिवार की बात करते हुए सीमा समृद्धि ने कहा, ”पीड़िता का परिवार अभी भी ऊंची जाति के लोगों के साथ रह रहा है, ऐसे में अभी तो परिवार को सुरक्षा दी गई है लेकिन क्या वह आजीवन काल के लिए है? जब भी सुरक्षा उठाई जाएगी परिवार की जान को उस गांव में हमेशा खतरा रहेगा. मैं हाल ही में उस गांव में गई थी और मुझे खुद वहां के लोगों के ताने सुनने को मिले जो आरोपियों के महिमामंडन करने के साथ-साथ जल्द रिहा होने को लेकर आश्वस्त थे.”। सीमा ने कहा कि निर्भया के मामले की तुलना में मेरे लिए इस मामले को लड़ना थोड़ा ज्यादा मुश्किल है क्योंकि निर्भया के केस में दिल्ली पुलिस ने इंवेस्टिगेशन बेहतरीन तरीके से की, जबकि इस मामले में हाथरस की पुलिस ने पूरे मामले को दबाने और सबूतों को मिटाने की कोशिश की. लेकिन इस लड़ाई में हम आखिर तक लड़ेंगे और हाथरस की बेटी को भी वैसे ही न्याय दिलाकर मानेंगे जैसे निर्भया को दिलाया था । सीबीआई की चार्जशीट को लेकर उन्होंने कहा, ”सीबीआई की तरफ से जिन चार आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई है उसको लेकर हम संतुष्ट हैं. हमारा संघर्ष रंग लाया है और लोकल पुलिस ने इस मामले को दबाने में पूरी ताकत लगा दी सीबीआई ने आज अपनी चार्जशीट से साफ कर दिया है कि यह ऑनर किलिंग का नहीं बल्कि गैंगरेप का मामला था. हालांकि अभी हमें कोर्ट की तरफ से पूरी चार्जशीट नहीं मिली है लेकिन हम उसके लिए अर्जी लगा रहे हैं.” । हाथरस पीड़िता की वकील सीमा समृद्धि ने आजतक से बातचीत करते हुए कहा कि घटना के वक्त योगी सरकार के द्वारा परिवार के एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी देने की बात की गई थी लेकिन अभी तक उस घोषणा पर अमल नहीं किया गया है. सीमा ने आजतक को बताया कि वे इस मामले को दिल्ली में ट्रांसफर कराने को लेकर भी जल्द ही एक अर्जी लगाने वाली हैं ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *