मेरठ में जिस्‍मफरोशी मामले में षड्यंत्र, सीओ ने निर्दोष और एएसपी ने विनोद अरोड़ा पाया को दोषी ।।
देश-विदेश मेरठ

मेरठ में जिस्‍मफरोशी मामले में षड्यंत्र, सीओ ने निर्दोष और एएसपी ने विनोद अरोड़ा पाया को दोषी ।।

Jan 12, 2021
21 Views

शास्त्रीनगर सेंट्रल मार्केट व्यापार संघ के पूर्व महामंत्री विनोद अरोड़ा की गिरफ्तारी के पीछे राजनीतिक षड्यंत्र की खेल सामने आ रहा है। इस मामले में सीओ की विवेचना में विनोद अरोड़ा को क्लीनिचट दे दी गई थी। लेकिन दोबारा से एएसपी सूरज राय को विवेचना में विनोद को जिस्मफरोशी का आरोपित बनाया गया। आरोप है कि विनोद अरोड़ा के इशारे पर होटल में कई दिनों से जिस्मफरोशी चल रही थी। पकड़े गए कर्मचारियों ने भी अपने बयान में विनोद अरोड़ा के शामिल होने की पुष्टि की है।आपको बता दें कि 18 जुलाई 2019 को नौचंदी थाने के शास्त्रीनगर स्थित होटल साहिल के अंदर से एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट (एएचटीयू) ने जिस्मफरोशी पकड़ी थी। पुलिस ने मौके से चार ग्राहक और दो युवतियों और होटल के कर्मचारियों को पकड़ा था। उस समय मुकदमे में होटल के स्वामी विनोद अरोड़ा को भी आरोपित बनाया गया था। मुकदमा सीओ संजीव देशवाल की तरफ से दर्ज किया गया था, जिसकी विवेचना सीओ हरिमोहन को दी गई थी। सीओ की विवेचना में विनोद अरोड़ा को क्लीनचिट दे दी गई थी। यही कारण है कि विनोद अरोड़ा भी खुलेआम पुलिस के सामने घूम रहा था ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *